आज मोहर्रम के त्यौहार पर यूपी पुलिस पूरी तरह से अलर्ट नज़र आ रही है। यूपी पुलिस हर तरीके से सुरक्षा पर ध्यान दे रही है जिसे सभी जगह शांतिपूर्वक मोहर्रम को मनाया जा सके। बता दे की, यूपी डीजीपी ने मुख्यालय के सभी पुलिस बल को दिशा निर्देश दे दिया है, इसके साथ ही पहले ही प्रशासन की तरफ से मस्जिदों के इमामों, धर्मगुरुओं व अंजुमनों के साथ बैठक करके शासन के इस निर्देश से अवगत करा दिया गया है कि कोई नई परंपरा नहीं शुरू की जाएगी। ताजिया जुलूसों की वीडियोग्राफी कराए जाने, सीसीटीवी कैमरों को सक्रिय कराने तथा ड्रोन कैमरा से चेकिंग कराने के निर्देश भी दिए गए हैं।

जानकारी के मुताबिक, मोहर्रम की दसवीं तारीख यौम-ए-आशूरा को ताजियों को ताजियों को कर्बला ले जाकर दफनाता जाएगा। कोरोना की वजह से अब 2 साल बाद मुहर्रम पर जुलुस निकाला जायेगा इसी वजह से यूपी पुलिस अत्यधिक सतर्कता बरत रही है और अपनी तरफ से पूरी सुरक्षा प्रदान कर रही है।

सभी जिलों को डीजीपी मुख्यालय की तरफ से 152 कंपनी पीएसी और 11 कंपनी केंद्रीय बल मुहैया कराए गए हैं।संवेदनशीलता की वजह से लखनऊ कमिश्नरेट को 12 एएसपी, 34 डीएसपी, 40 इंस्पेक्टर, 175 सब इंस्पेक्टर, 10 महिला सब इंस्पेक्टर, 600 हेड कांस्टेबल व कांस्टेबल तथा 150 ट्रेनी कांस्टेबल अलग ड्यूटी पर लगाए हैं। राज्य में इस बार 89,035 ताजियों की रखी गई हैं।

मोहर्रम के जुलूसों में बाक्स फार्मेट में चारों तरफ पुलिस के जवानों की ड्यूटी रहेगी और जुलूस के आगे-पीछे राजपत्रित अधिकारी मौजूद रहेंगे। जुलूस के मार्गों की सुरक्षा के लिए श्वान दल और बम निरोधक दस्ते से सघन जांच कराने के निर्देश दिए गए हैं। एटीएस के कमांडो भी अलर्ट पर रखे गए हैं। बता दे, सोशल मीडिया पर पूरी नज़र रखी जा रही है जिससे किसी भी तरह का माहौल न बिगड़े।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.